2015 · BJP · Facebook · Hindi · Indian Government · News · Politics

Narendra Modi cheated the Indians along with Mark Zuckerberg

image

मोदी ने मार्क जुकरबर्ग के साथ मिल कर भारतीयों को दिया धोखा
-:
कुछ दिनों पहले मोदी सरकार ने मार्क जुकरबर्ग के कहने पर इंटरनेट सेवा जो की अभी मुफ्त प्राप्त होती है पर टैक्स लगाने की बात कही थी. देश भर में डिजिटल प्रेमी लोग ‘नेट न्यूट्रालिटी’ के पक्ष में आन लाइन पिटीशन और विरोध प्रदर्शन में शामिल थे.
गौरतलब है की मार्क जुकरबर्ग ने ही ‘इंटरनेट.ओआरजी’ की असुविधा से भारतियों का परिचय करवाने का प्रयास किया था. इसके तहत जुकरबर्ग ने ग्रामीण भारत को इंटरनेट प्रणाली से जोड़ने का सुझाव दिया था. लेकिन इसमें जो बड़ी समस्या थी वह यह थी की इससे छोटे मोटे वेबसाईट संचालक और वेब पोर्टल जो मुफ्त में चलते हैं उन्हें आम उपभोक्ता की पहुँच से दूर कर देना था एवं कुछ ख़ास पैकेज के अंतर्गत ही उन वेबसाईट का एक्सेस आपको मिल पाता. अभी चार या पांच सौ के रिचार्ज में जो मन वो देख पढ़ लेते हैं लेकिन मोदी के ‘डिजिटल भारत’ में इससे अधिक पैसा चुकाना पड़ जाएगा.
इसको यूँ समझिए. कुछ साल पहले तक हम लोग टीवी पर बहुत से चैनल पचास या सौ रुपये महीने में लोकल केबिल आपरेटर के माध्यम से देख लेते थे लेकिन कुछ समय पहले डिश टीवी/टाटा स्काई आदि नेटवर्क ने इस पर कब्ज़ा जमा लिया और सरकार ने नियम कानून बना कर उनकी मदद भी की.
अब हर एक चैनल का अपना दाम है. उतना चुकाएंगे तो उसे देख पाएंगे. ऐसे ही जब जुकरबर्ग और मोदी की जुगलबंदी अपने चरम पर होगी तो भारत में हर एक वेबसाईट का अपना एक अलग रिचार्ज हुआ करेगा. जिसे खुरचे बिना ,आप उसे इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे.
मनमोहन सिंह के दौर में 98 रुपए में पूरे महीने इंटरनेट चलाने को मिलता था,आज 2 जी का सबसे सस्ता रिचार्ज 198 रुपये का है. 2 जी तो चलता भी नहीं है. 3 जी नेटवर्क के दाम तो कभी कम होने का नाम ही नहीं ले रहे.
इतना कुछ जान लेने के बाद मेरी उन सभी दोस्तों से जिन्होंने अपनी प्रोफाइल फोटो ‘support digital India’ वाली कर रखी है से अपील है उसे बदल दें, यह राष्ट्रप्रेम अथवा देश को समर्थन देने के मुहीम नहीं बल्कि मोदी के साथ मिल कर दुनिया के बड़े बिजनेसमैन द्वारा भारतीयों की जेब काटने की मुहीम है.
जिन लोगों प्रोफाइल को तिरंगे में रंग दिया है ,उन सबके आंकड़े फेसबुक मुख्यालय में जमा हो जायेंगे और इसका इस्तेमाल ‘नेट न्यूट्रालिटी’ मुद्दे में मन मुताबिक वे लोग कर लेंगे. जाने अंजाने में आपने एक बड़ी गलती कर दी है.
अब तक एक करोड़ सत्तर लाख लोगों ने अपनी डीपी सिर्फ इसलिए चेंज कर ली क्योंकि उन्हें लगता है वे देश का समर्थन कर रहे हैं. नीचे इस खबर से जुड़े कुछ लिंक है,जिस को क्लिक करके आप विस्तार से समझ सकते हैं.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s